Loading...
सोमवार, मई 21, 2012

अभी भी

अभी भी
मेरी मुठ्ठी में कुछ वक़्त है
अभी भी
मेरी हथेलियों में कुछ लकीरें हैं
अभी भी
मेरी उँगलियों में कुछ जुम्बिश है
अभी भी
मैं छू सकता तुम्हें गर चाहूं तो      
पर न जाने क्यों
ये वक़्त
ये लकीरें
ये जुम्बिश
ये स्पर्श
लगते हैं बेमानी
उस वक़्त
जिस वक़्त
चुकाता हूँ मैं 
मोल मुस्कराहटों का
दर्द की किसी
बेमुरव्वत
दुकान पर .........



अशोक जमनानी









 
TOP