Loading...
शनिवार, अक्तूबर 06, 2012

संस्कृति और संवाद


संस्कृति और संवाद

राजा मानसिंह कला विश्वविद्धयालय  ग्वालियर में संस्कृति से जुड़ाव रखने वाले अनेक लोगों के साथ संवाद का एक  अवसर मेरी उस धारणा को पुष्ट करने वाला ही सिद्ध हुआ कि  हमारा समाज आज भी अपनी संस्कृति से जुड़ाव की हर एक कोशिश का स्वागत करता है। लगभग तीन घंटे तक चले इस संवाद में ढेर सारे सवालों के जवाब देने पड़े पर श्रोताओं के उत्साह ने कभी भी थकने नहीं दिया। इस कला विश्वविद्धयालय से जुड़े डाक्टर धीरेन्द्र सिंह चंदेल के स्नेह से परिपूर्ण आतिथ्य ने पूरे दिन को एक ऐसे दिन में बदल दिया जिसे मैं  सदैव याद रखना चाहूँगा।

-अशोक जमनानी 
 
TOP