Loading...
मंगलवार, नवंबर 20, 2012

पंछी


पंछी

दर्द के पंछी सभी
आयेंगे फिर यहाँ
शाखों पे मेरी बैठकर
जागेंगे रात भर ....................

- अशोक जमनानी 
 
TOP