Loading...
गुरुवार, नवंबर 22, 2012

सुप्रभात

सुप्रभात
यदि संभव हो तो दिन का आरम्भ समाचार-पत्र या समाचार चैनल के साथ मत कीजिए। कोई भी सकारात्मक कार्य सुबह-सुबह कीजिए फिर ज़रा उजाला फैलने के बाद नकारात्मकता के ये ढोल बजने दीजिये।

- अशोक जमनानी      
 
TOP