Loading...
सोमवार, नवंबर 26, 2012

मेहँदी

मेहँदी 

तुम
अपने हाथों में
मेहँदी मत लगाना
मैं चाहता हूँ
जिस वक़्त थामूं
मैं हाथ तुम्हारा
उस वक़्त
कुछ भी न हो
तुम्हारे
और मेरे
हाथों के
दरमियां .....

- अशोक जमनानी


 
TOP