Loading...
बुधवार, दिसंबर 12, 2012

छाँव

छाँव

उस दरख़्त के नीचे
छाँव ना मिलेगी 
उसे लगाया है
किसी सियासत वाले ने

- अशोक जमनानी  

 
TOP