Loading...
गुरुवार, दिसंबर 20, 2012

देर तक

देर तक 

पर नोच लिए उसने
सारे परिंदों के
जागा था देर रात तक
सोना था देर तक 

- अशोक जमनानी
 
TOP