Loading...
शुक्रवार, दिसंबर 28, 2012

ग़ज़ल

ग़ज़ल 

कैसे लिखें कोई ग़ज़ल इस बेवफ़ा से दौर में
कोई भी दर्द आजकल ठहरा रहा ना देर तक    

- अशोक जमनानी

 
TOP