Loading...
शनिवार, दिसंबर 15, 2012

वो

वो

वो पूंजीवाद के विरोधी हैं।
पूछा कि क्यों हो ?
तो बोले कि अन्याय है
बड़ा और बड़ा होता जाता है।
छोटा और छोटा होता चला जाता है।
वो बड़े और महान हैं।
वैसे वो फेस बुक पर भी हैं।
वो केवल बड़े लोगों की पोस्ट पर लाइक और कमेंट करते हैं।
वो पूंजीवाद के विरोधी हैं। 

- अशोक जमनानी 





अशोक जमनानी
स्वतंत्र लेखक,
होशंगाबाद (मध्य प्रदेश)

 
TOP