Loading...
रविवार, जनवरी 27, 2013

ग़ालिब

ग़ालिब

वो तो न कर सके कभी भी इश्क़ किसी से
पर शायरी में ख़ुद को ग़ालिब समझते हैं 

- अशोक जमनानी
 
TOP