Loading...
गुरुवार, अगस्त 01, 2013

एक संवाद प्रेमचंद जयंती पर





एक संवाद प्रेमचंद जयंती पर

कल प्रेमचंद जयंती थी और स्थानीय एन इ एस महाविद्यालय के प्राध्यापक श्री संजय गार्गव ने आग्रह किया कि उनके छात्रों से प्रेमचंद के साहित्य पर बात करूँ। मेरे लिए प्रेमचंद को इस ढंग से याद करने से बेहतर क्या हो सकता था। मैंने छात्रों को उनकी कहानी 'विनोद' सुनायी और फिर उनके आग्रह पर अपनी भी एक कहानी सुनायी। ख़ास बात ये थी कि गार्गव जी महाविद्यालय में वाणिज्य  पढ़ाते हैं उन्होंने और उनके विद्यार्थियों ने प्रेमचंद को याद किया … हिंदी वाले शायद भूल गए होंगे ……

- अशोक जमनानी




 
TOP