Loading...
गुरुवार, नवंबर 27, 2014

नर्मदा यात्रा : 9 : राम घाट- लक्ष्मण घाट






नर्मदा यात्रा : 9 : राम घाट- लक्ष्मण  घाट















































































मड़ियारास से आगे चलते हैं तो सहस्त्रधारा के लघु रूप से मिलते हैं जिसका सौंदर्य ऐसा कि वहीं रुक जाने के लिए विवश कर दे और जल ध्वनि का माधुर्य इतना मीठा कि यह संगीत भुलाये न भूले। इसके उत्तर तट को  रामघाट और दक्षिण तट को लक्ष्मण घाट कहते हैं। जल की अनेक धाराएं कई अनसुनी कहानियां सुनाती हैं वैसे कहानियां तो नर्मदा पुराण भी कई सुनाता है। नर्मदा पुराण हमारे 18 पुराणों में अलग से शामिल नहीं है। सबसे बड़े पुराण 'स्कंद पुराण' के अवन्ति खंड के रेवा उपखण्ड को ही नर्मदा पुराण कहा जाता है। आप सबने भी कभी न कभी नर्मदा पुराण का एक अंश अवश्य सुना होगा क्योंकि इसके अंतिम हिस्से को हम सत्य नारायण की कथा के रूप में जानते हैं  ……  अशोक जमनानी    

 
TOP